Connect with us

Uncategorised

नोएडा पुलिस का बर्बर चेहरा, फौजी की कर दी बेरहमी से पिटाई

Published

on

उत्तर प्रदेश की पुलिस की दबंगई किस हद तक बढ़ सकती है, इसका अंदाजा इस घटना से लगाया जा सकता है कि कुछ पुलिसकर्मियों ने देश की रक्षा करने वाले सैनिक की बर्बरतापूर्ण पिटाई कर दी. मामला नोएडा के थाना क्षेत्र जेवर का है.
डायल 100 जिप्सी पर तैनात पुलिसकर्मियों ने एक फौजी से बर्बरतापूर्ण मारपीट की. फौजी का सिर्फ इतना कसूर था की पुलिस द्वारा लोगों से की जा रही अवैध उगाही का उसने विरोध किया था. इस विरोध के चलते फौजी को जिप्सी पर तैनात पुलिस कर्मियों द्वारा इतना पीटा गया की वह बेहोश हो गया. जब उसकी आंख खुली तो वह थाना जेवर की सलाखों के पीछे था. यह सिलसिला यहीं तक नहीं थमा, इसके बाद पुलिस द्वारा फौजी को भिन्न धाराओं में जेल भी भेज दिया गया. जब फौजी जेल से जमानत पर छूट कर घर आया तो उसने आपबीती अपने परिवार को सुनाई. अब पीड़ित न्याय के लिए दर -दर की ठोकरें खा रहा है.
घायल युवक कोई और नहीं देश की सीमा पर तैनात रह कर देश की रक्षा करने वाला नीमका गांव जेवर का फौजी अनुज कुमार शर्मा है जो 48 वीं आरा बटालियन में सिग्नल डिपार्टमेंट में कांस्टेबल पद पर तैनात फौजी है. उसे कितने बर्बरतापूर्ण तरीके से पीटा गया इसका अंदाजा उसके शरीर पर लगी चोटों से लगाया जा सकता है. अनुज कुमार का कसूर सिर्फ इतना था कि उन्होंने डायल 100 गाड़ी पर तैनात पुलिसकर्मियों द्वारा लोगों से की जा रही अवैध उगाही करने का विरोध किया था.
अनुज ने बताया कि 24 अगस्त शाम 7 बजे वह अपने घर जेवर से अपने खेतों पर घूमने जा रहे थे, तो रास्ते में उन्होंने देखा कि काले रंग की डायल 100 गाड़ी पर तैनात पुलिसकर्मी लोगों को रोक कर अवैध उगाही कर रहे थे. अनुज कुमार शर्मा ने इसका विरोध किया जिससे तिलमिलाये पुलिसकर्मियों ने अनुज से पूछा की तू कौन है और उन्होंने बताया कि वह एक फौजी हैं तो पुलिसकर्मी आगबबूला हो गए और उस स्थान से 100 मीटर दूर सुनसान इलाके में ले जाकर अनुज को पीटना शुरू कर दिया. अनुज ने बताया, ‘जब मैंने इसका विरोध किया तो पुलिसकर्मियों ने एक पीसीआर और बुला ली. फिर लगभग आधा दर्जन पुलिसकर्मियों द्वारा मुझे इतना पीटा गया कि मैं बेहोश हो गया और जब मेरी आंख खुली तो मैं जेवर थाने के कटघरे में था. उसके बाद मुझे भिन्न धाराओं में फंसाकर जेल भेज दिया गया और पुलिस द्वारा धमकाया गया की यदि मज़िस्ट्रेट के सामने अपनी जुबान खोली तो मेरी जिंदगी बर्बाद कर दी जाएगी. जब जमानत होने के बाद मैं मेडि‍कल कराने जिला अस्पताल गया तो डाक्टरों ने मेरा मेडिकल करने से यह कह कर मना कर दिया कि तुम्हारा मेडिकल तो जेवर अस्पताल में हो चुका है, जबकि मुझे यह तक नहीं पता कि मेरा मेडिकल कब हुआ.’
पीड़ित के भाई ने बताया, ‘मेरा भाई अनुज कुमार छुट्टी पर घर आया हुआ था. 24 अगस्त को शाम 7 बजे अपने घर से खेतों पर टहलने की बात कह कर निकला था, जब देर रात्रि तक वह घर वापस नहीं आया तो मैंने अपने भाई के मोबाइल पर संपर्क किया तो मोबाइल को बार-बार डिस्कनेक्ट कर दिया जाता रहा और फिर उसका मोबाइल बंद हो गया. सुबह किसी नंबर से मुझे फोन पर सूचना दी गई कि तुम्हारा भाई जेवर थाने में बंद है. तो हमने फोन करने वाले से थाने में बंद होने का कारण पूछा तो बिना कुछ बताए फोन काट दिया गया और जब मैंने जेवर थाने जाकर अपने भाई से मिलना चाहा तो मुझे मिलने नहीं दिया गया और पुलिस ने मुझसे बदसलूकी कर मुझे भगा दिया. मैं कल जमानत कराकर आज मेडिकल के लिए जिला अस्पताल भाई को लाया हूं, लेकिन डॉक्टरों ने मेडिकल करने से मना कर दिया है.’
इस घटना की जानकारी देने से पुलिस के आला अधिकारी बचते नजर आये और इस सम्बन्ध में जब हमने एस पी देहात सुनीति सिंह से फोन पर बात की तो उन्होंने बताया की फौजी शराब के नशे में था और पुलिसकर्मियों से बदतमीजी करने लगा, जिसके चलते फौजी के विरुद्ध जेवर थाने में मामला पंजीकृत कर उसे जेल भेज दिया गया था. वह जमानत पर दो दिन बाद छूट कर वापस आया है.
लेकिन घायल फौजी की हालत देखने के बाद यह सवाल उठता है कि क्या पुलिस को इतना अधिकार है कि वह एक फौजी के साथ थर्ड डिग्री का स्तेमाल कर उसकी पुलिस बर्बरतापूर्वक पिटाई करे और इसकी जानकारी उसके परिजनों को भी न दे.

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uncategorised

सांसद कैसरगंज की अध्यक्षता में दिशा की बैठक 10 अगस्त को

Published

on

By

बहराइच (संदीप त्रिवेदी): जिलाधिकारी शम्भु कुमार ने बताया कि सांसद कैसरगंज बृजभूषण शरण सिंह की अध्यक्षता में 10 अगस्त 2020 को मध्यान्ह 12.00 बजे से विकास भवन सभागार बहराइच में जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति (दिशा) की बैठक आहूत की गयी है। जिलाधिकारी ने बताया कि कोविड-19 के प्रभाव को दृष्टिगत रखते हुए सांसद कैसरगंज द्वारा सभी जनप्रतिनिधियों से अपेक्षा की गयी है कि बैठक में स्वयं प्रतिभाग करें एवं अपने किसी प्रतिनिधि/सहयोगी को न भेजें।

Continue Reading

Uncategorised

बार्डर पर तैनात एस.एस.बी जवान पर खाद तस्करों ने बोला हमला, हालत गंभीर

Published

on

By

“गश्त के दौरान हुआ हमला”

महराजगंज/ नौतनवां (गुड्डू गुप्ता)।जनपद महाराजगंज के नौतनवां तहसील क्षेत्र के सीमा से सटे बरगदवा थाना क्षेत्र के चकरार गांव के पास शुक्रवार को गश्त कर रहे एस.एस.बी जवान अमरेन्द्र पांडेय पर खाद लेकर नेपाल जा रहे तस्करों ने हमला कर लहूलुहान कर दिया। घायल जवान को तस्कर खींचकर नेपाल ले जा रहे थे। तभी भारतीय क्षेत्र के ग्रामीणों ने दौड़ा लिया। ग्रामीणों को आता देख तस्‍कर एस.एस.बी जवान को छोड़कर नेपाल भाग गए।

जानकारी के लिए बता दें इन दिनों नेपाल के खुले नाके बरगदवा बॉर्डर पर तस्करों के दबंगई का आलम यह है की वह अपने कार्य को करते समय किसी भी अधिकारी कर्मचारी को कुछ नहीं समझते बल्कि अपने कारोबार को खुलेआम डंके की चोट से करने का कार्य भी कर रहे हैं। जिसका अद्भुत नजारा है कि गश्त कर रहे एस.एस.बी जवान अमरेन्द्र पांडेय पर खाद तस्करों ने हमला कर लहूलुहान कर दिया। मिली जानकारी के अनुसार एस.एस.बी जवान ने तस्करों को रोक कर तस्करी के सामान को अपने कब्जे में लेना चाहा कि अचानक उन तस्करों ने हमला कर लहूलुहान कर दिया। और इतना ही नहीं घायल जवान को तस्कर खींचकर नेपाल ले जा रहे थे। तभी भारतीय क्षेत्र के ग्रामीणों ने दौड़ा लिया। ग्रामीणों को आता देख तस्‍कर एस.एस.बी जवान को छोड़कर नेपाल भाग गए। गंभीर रूप से घायल जवान को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां उनका इलाज चल रहा है।

Continue Reading

Uncategorised

मुर्गा से भरी डीसीएम पलटने से चार लोग गंभीर रूप से घायल

Published

on

By

पीलीभीत (प्रदीप कुमार वर्मा)।पीलीभीत के पूरनपुर क्षेत्र में आज सुबह बुधवार 6:00 बजे पीलीभीत की तरफ से आ रही एक डीसीएम जो खुटार की तरफ से जा रही थी। जानकारी के अनुसार डीसीएम UP 31T6788 टनकपुर (उत्तराखंड) से मुर्गों को लेकर पलिया लखीमपुर खीरी को जा रही थी। जैसे ही डीसीएम गढ़वा पहुंची,
रास्ते में ड्राइवर को नींद आने के कारण असम हाईवे के कजरी के पास गड्ढे में जा गिरी।
दुर्घटना में 4 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। तभी राहगीरों के द्वारा दुर्घटना की जानकारी गढ़वा चौकी पुलिस को दी गई सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को तत्काल 108 को कॉल करके मौके पर बुलाया गया गढ़वा चौकी इंचार्ज राकेश कुमार वर्मा ने तत्काल 108 की मदद से खुटार जनपद शाहजहांपुर सीएचसी भिजवाया गया।
घायलों को निकलवाने में चौकी इंचार्ज गढ़वा खेड़ा राकेश कुमार वर्मा हेड कांस्टेबल महावीर सिंह कांस्टेबल नसीम का विशेष योगदान रहा है और थाना अध्यक्ष द्वारा भी मौके पर पहुंचकर गाड़ी मालिक के आने तक मौके पर इंतजार किया और डीसीएम गाड़ी को मयमाल के मालिक को सुपुर्दगी में दे दी।

Continue Reading
Advertisement

Trending

Copyright © 2019 nirvantimes.com. Powered by IP DIGITAL MARKETING SERVICES